Biology12th

जनन किसे कहते हैं परिभाषा तथा प्रकार || how many types of reproduction ||लैंगिक तथा अलैंगिक जनन

जनन किसे कहते हैं परिभाषा तथा प्रकार || how many types of reproduction ||लैंगिक तथा अलैंगिक जनन


सभी जीव अपने निश्चित जीवन kaal की पूरा करने से पहले अपने ही smaan  संतान के roop में अपनी जाति के नए सदस्य उत्पन्न karte hai  हैं जो कि इस क्रिया को जनन कहते हैं
जीवो में जनन का एक महत्वपूर्ण लक्षण है तथा jisase  सृष्टि का चलाएं मान होता है
Jio mai janan
Jio mai janan

जनन उद्देश(Generation objective);

जनन का उदेश निम्नलिखित बिंदुओं द्वारा स्पष्ट होता है
1. जाति में वृद्धि(Increase in caste)
2. जाति कि निरंतरता(Continuity of caste)
3. समशिष्ट का संगठन(Organization of reference)
4. विभिन्नता आएं(Vary)
5. पृथ्वी पर जीवन(Life on earth)

जनन के प्रकार(Type of reproduction);

पौधों में जनन की मुख्यतः तीन विधि होती है
1.कायिक जनन (Physical generation)

2.अलैंगिक जनन (Asexual reproduction)

3. लैंगिक जनन(Sexual reproduction)

1.कायिक जनन (Physical generation)

पौधे पादप काय के ak नए पौधे का vikaas होता है इस प्रक्रिया को कायिक जनन कहते हैं

कायिक जनन के प्रकार(Types of somatic reproduction)

कायिक जनन दो भागों में बांटा गया है
1.प्राकृतिक कायिक प्रवर्धन तथा(Natural physiological amplification and)
2. कृत्रिम कायिक प्रवर्धन(Artificial physiological amplification)

1. प्राकृतिक कायिक प्रवर्धन(Natural physiological amplification);

इस kriya में पौधे का का एक भाग जैसे :जड़  tana patti विकसित hoker नए पौधे बनाता है प्राकृतिक aaye  प्रवर्धन कहलाता है इसकी विधि निम्नलिखित है
जड़ों द्वारा(By roots); शकरकंद शतावरी डहेलिया मेंथा आदि पौधों में जड़ों द्वारा कायिक pravrdhan होता है



 तना द्वारा: शकरकंद धन कंद आदि पौधों में तनों द्वारा प्रवर्धन होता है

 पत्तियों द्वारा(By leaves);

कुछ पौधों में जैसे बायोफिल्म क्रोलाचो आदि के kinaaro पर अपस्थानिक पत्र कालिकाएं बनती है जिसे chhote_ छोटे पौधे विकसित होते हैं

कृत्रिम कायिक प्रवर्धन(Artificial physiological amplification);


इसके निम्नलिखित विधि है
1. रोपड़ 2. कालिक रोपड़ 3.कलम लगाना 4. दांव लगाना 5.गुटी बंधन  6.शाखा प्रबंधक

सूक्ष्म प्रवर्धन(Micro Amplification);

पौधे के कोशिका या ऊतक टुकड़े को poshak  पोशाक माध्यम में rakh कर स्टीविया ट्रेलर naye पौधे तैयार किए जाते हैं जिसे सूक्ष्म प्रवर्धन हैं

लैंगिक जनन क्या है(What is sexual reproduction);

इसमें जो भी नदियों की bhagidari  आवश्यक है इसमें नरवर तथा मादा dono  भिन्न   जीव के सहयोग मिलने से संतति ka निर्माण होता है अर्थात या आंशिक roop से भिन्न होती है इससे लैंगिक जनन कहते हैं

अलैंगिक जनन(Asexual reproduction);

वह janan जिसमें 2 जीव की bhagidari  नहीं होती है इसमें एक जीव द्वारा ही santaan  उत्पत्ति संभव है अलैंगिक जनन कई prakaar 
 की विधियों द्वारा होता है इनमें उत्पन्न संतति पैरंट के समान होगी अर्थात अनुवांशिकी रूप से समान होती हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button